CommerceSent-up

ACCOUNTANCY SUBJECTIVE SENTUP EXAM ANSWER KEY 2024

bihar board accountancy sentup exam viral question answer 2024

बिहार बोर्ड के द्वारा लिए गया क्लास 12th के अकाउन्टन्सी subject के सेंट उप इग्ज़ैम का subjective question का answer यहाँ जनेगे

BIHAR BOARD :- ACCOUNTANCY OBJECTIVE SENT UP EXAM QUESTION PAPER AND ANSWER KEY

अगर आपको objective question का answer check करना है तो उप्पर दिए गए लिंक पर क्लिक कर के देख ले

यहाँ पर बिहार बोर्ड के द्वारा sentup exam मे पूछे गए subjective question का answer देखेंगे जो की बिहार बोर्ड के वार्षिक परीक्षा के लिए लिया गया था

1.  गैर-लाभ वाले संगठनों द्वारा सामान्यत: कौन-से विवरण तैयार किये जाते है | [ What statements are usually prepared by non-profit Organisations ? ]

        गैर-लाभकारी चार मुख्य वित्तीय रिपोर्टिंग विवरणों का उपयोग करते हैं: बैलेंस शीट, आय विवरण, नकदी  प्रवाह का विवरण और कार्यात्मक व्यय का विवरण।

Nonprofits use four main financial statements: the balance sheet, the income statement, the statement of cash flows and the statement of functional expenses.

2.  आय तथा व्यय खाता की कोई दो महत्वपूर्ण विशेशताएं बताइए। [ Mention any two important characteristics of income and expenditure Account. ]

accountancy subjective sentup exam answer key

आय एवं व्यय खाते की मुख्य विशेषताएँ निम्न प्रकार हैं-

 a.    यह एक अवास्तविक या नाम-मात्र का खाता है।  This is an unrealistic or nominal account.

b.    यह आगम-शोधन खाते एवं अन्य अतिरिक्त सूचनाओं के आधार पर बनाया गया है। It is created on the basis of the revenue-laden account and other additional information.

c.    यह खाता लाभ-हानि खाते के समान होने के कारण इसके साथ आर्थिक चिट्ठा अनिवार्य रुप से बनाया जाता है। Since this account is similar to profit and loss account, balance sheet is compulsorily prepared with it.

 d.     इस खाते में केवल आयगत प्राप्तियों एवं भुगतानों का ही लेखा किया जाता है, पूँजीगत प्राप्तियों एवं भुगतानों का लेखा इस खाते में नहीं कियी जाता है।  In this account only income receipts and payments are accounted, capital receipts and payments are not accounted for in this account.

e.    इसमें प्राप्ति एवं भुगतान खाते का रोकड़/बैंक का प्रारम्भिक एवं अन्तिम शेष नहीं लिखा जाता है। In this, the opening and closing balance of the cash / bank account of the receipt and payment account is not written.

 f.    इसके ऋणी पक्ष में समस्त चालू वर्ष से सम्बन्धित आयगत  आयों का लेखा किया जाता है, चाहे वे नकद प्राप्त हुई हैं अथवा नहीं। On its debtor side, all the current year’s related income incomes are accounted, whether they are received in cash or not.

3.  साझेदारी संलेख क्या है ? [ what is Partnership Deed ? ]

एक साझेदारी संलेख जिसे एक साझेदारी समझौता भी कहा जाता है, एक रिकॉर्ड है जो एक व्यवसाय संचालन के लिए सभी पक्षों के अधिकारों और कार्यात्मकताओं को विस्तार से रेखांकित करता है। इसमें कानून का बल है और यह व्यवसाय के संचालन में भागीदारों का मार्गदर्शन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।  A partnership deed, also called a partnership agreement, is a record that outlines in detail the rights and functionalities of all parties involved in conducting a business. It has the force of law and is designed to guide the partners in the conduct of business.

4.  साझेदारी के दो आवश्यक तत्वों का वर्णन कीजिए। [ Explain Two essentail elements of Partnership.]

साझेदारी उन व्यक्तियों के बीच का संबंध है जो सभी या उनमें से किसी के द्वारा किए गए व्यवसाय के मुनाफे को साझा करने के लिए सहमत हुए हैं।  Partnership is the relation between persons who have agreed to share the profits of a business carried on by all or any of them acting for all.

एक साझेदारी फर्म के आवश्यक तत्व :- Elements of a partnership firm

 i :-       साझेदारी के लिए अनुबंध | Contract for Partnership

 ii :-     एक साझेदारी में भागीदारों की अधिकतम संख्या 20 है। Maximum No. of Partners in a partnership is 20.

iii :-     साझेदारी में व्यापार करना | Carrying on of Business in a Partnership

iv :-     मुनाफे का बंटवारा | Sharing of Profits

v :-      एक साझेदारी में म्युचुअल एजेंसी | Mutual Agency in a Partnership

accountancy-subjective-sentup-exam-answer-key

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button